Breaking News
सेना में महिला अफसरों को स्थायी कमीशन का एलान  |   2022 तक अंतरिक्ष में मानव मिशन भेजने का एलान  |   प्रधानमंत्री ने की तीन तलाक की चर्चा  |   82 मिनट के भाषण में पीएम मोदी ने पेश किया सरकार के कामकाज का लेखा जोखा  |   लाल किले के प्राचीर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 25 सितंबर से आयुष्मान भारत शुरू करने का किया एलान  |  
 
 
दैनिक यूपी ब्यूरो
31/05/2018  :  12:09 HH:MM
चक्का फेंक के एथलीट विकास गौड़ा ने लिया संन्यास
Total View  62

चार बार के ओलंपियन का यह फैसला हालांकि चौंकाने वाला नहीं है क्योंकि पिछले साल भुवनेश्वर में एशियाई चैम्पियनशिप में कांस्य पदक जीतने क बाद उन्होंने किसी बड़ी अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में शिरकत नहीं की है।

नई दिल्लीः चक्का फेंक के शीर्ष एथलीट विकास गौड़ा ने 15 साल से अधिक समय तक प्रतिस्पर्धी स्तर पर खेलने के बाद आज संन्यास ले लिया इस दौरान वह राष्ट्रमंडल खेलों की इस स्पर्धा में पदक जीतने वाले पहले और एकमात्र भारतीय पुरूष एथलीट बने। चार बार के ओलंपियन का यह फैसला हालांकि चौंकाने वाला नहीं है क्योंकि पिछले साल भुवनेश्वर में एशियाई चैम्पियनशिप में कांस्य पदक जीतने बाद उन्होंने किसी बड़ी अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में शिरकत नहीं की है। वह पांच जुलाई को 35 साल के हो जायेंगे। भारतीय एथलेटिक्स महासंघ (एएफआई) ने अपने ट्विटर पेज पर उनके संन्यास की घोषणा की। विकास ने एएफआई को पत्र लिखकर अपने फैसले से अवगत कराया।           

 

विकास बना चुके हैं राष्ट्रीय रिकाॅर्ड

मैसूर में जन्में विकास का परिवार उनके छह साल के होने से पहले ही अमेरिका के मैरीलैंड में बस गये थे। उनके पिता भी पूर्व एथलीट रह चुके हैं और 1988 ओलंपिक में राष्ट्रीय कोच थे। विकास ने 2012 में 66.28 मीटर की दूरी से राष्ट्रीय रिकाॅर्ड अपने नाम किया था और यह अब भी उनके नाम ही है। उन्होंने 2013 और 2015 एशियाई चैम्पियनशिप में स्वर्ण पदक जीता था। उन्होंने 2010 राष्ट्रमंडल खेलों में रजत और 2014 ग्लास्गो राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक अपने नाम किया था। एशियाई खेलों में वह 2010 में कांस्य और 2014 में रजत पदक जीत चुके हैं। उन्होंने 2004, 2008, 2012 और 2016 ओलंपिक में हिस्सा लिया था। वह 2012 लंदन ओलंपिक में ही फाइनल दौर में पहुंचने में सफल रहे थे।           

 

इंडोनेशिया में होने वाले आगामी एशियाई खेलों से एक महीने पहले ही उन्होंने संन्यास की घोषणा की लेकिन वह पिछले कुछ समय से अपने मनमाफिक प्रदर्शन नहीं कर पा रहा है। उन्होंने हाल में राष्ट्रमंडल खेलों में हिस्सा नहीं लिया था क्योंकि एएफआई ने एक कड़ा नियम बनाया था कि जो राष्ट्रीय चैम्पियनशिप में हिस्सा नहीं लेंगे उन्हें बहु स्पर्धा टूर्नामेंट में भाग लेने की अनुमित नहीं दी जायेगी क्योंकि यह राष्ट्रीय प्रतियोगिता चयन ट्रायल का काम करती है। पिछले साल एशियाई चैम्पियनशिप के लिये भी उन्हें प्रतियोगिता से पहले अमेरिका से यहां भुवनेश्वर आने को कहा गया था ताकि वह चयन ट्रायल में हिस्सा ले सकें।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   9361493
 
     
Related Links :-
लाला अमरनाथ हैं भारत की ओर से पहला शतक लगाने वाले ऑल राउंडर
अब यो-यो टेस्ट के बाद आया नेक्सा टेस्ट, खिलाड़ी बाहर हुए तो कोहली होंगे जिम्मेदार
फ्रेंच ओपन : जोकोविच जीते, वोजनियाकी पहुंची प्री क्वार्टर फाइनल में
ज्वेरेव ने पांच सेट में जुमहुर को हराया, स्वितोलिना बाहर
चोट के बावजूद इयोन मोर्गन की हुई इंगलैंड टीम में वापसी
भारतीय महिला रग्बी टीम जून में करेगी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर डैब्यू
चक्का फेंक के एथलीट विकास गौड़ा ने लिया संन्यास
सेरेना ने ग्रैंडस्लैम में जीत से की वापसी
हालेप की संघर्षपूर्ण जीत, क्वितोवा भी आगे बढ़ी
वर्ल्ड इलेवन टीम से बाहर हुए पांड्या, शमी को मिली जगह
 
CopyRight 2016 DanikUp.com