Breaking News
सेना में महिला अफसरों को स्थायी कमीशन का एलान  |   2022 तक अंतरिक्ष में मानव मिशन भेजने का एलान  |   प्रधानमंत्री ने की तीन तलाक की चर्चा  |   82 मिनट के भाषण में पीएम मोदी ने पेश किया सरकार के कामकाज का लेखा जोखा  |   लाल किले के प्राचीर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 25 सितंबर से आयुष्मान भारत शुरू करने का किया एलान  |  
 
 
दैनिक यूपी ब्यूरो
29/05/2018  :  00:01 HH:MM
आधा करियर बीत चुका है अब टैस्ट रिकार्ड के बारे में सोचने का समय नहीं : रोहित
Total View  53

अब रोहित ने कहा कि टैस्ट करियर के बारे में सोचने का कोई मतलब नहीं बनता क्योंकि अब उनका आधा करियर बीत चुका है।

मुंबई : वनडे क्रिकेट में भारत के सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा के नाम चाहे ही तीन दोहरे शतक दर्ज हों लेकिन इस स्टार बल्लेबाज का टेस्ट क्रिकेट में रिकॉर्ड उतार-चढ़ाव से भरा रहा है। अब रोहित ने कहा कि टैस्ट करियर के बारे में सोचने का कोई मतलब नहीं बनता क्योंकि अब उनका आधा करियर बीत चुका है। वह तो अब सिर्फ अपने बचे हुए करियर का पूरा लुत्फ उठाना चाहते हैं। रोहित ने कहा- एक खिलाड़ी के रूप में आपके पास सीमित समय होता है और मैंने इसमें से लगभग आधा समय बिता दिया है। बाकी बचे आधे समय को यह सोचकर बिताने का कोई मतलब नहीं है कि मुझे चुना जाएगा या नहीं। मैं इस सिद्वांत के साथ आगे बढ़ता हूं कि मेरे पास जो भी मौका है उसका पूरा फायदा उठाओ।

सीमित ओवरों में प्रभावशाली रिकार्ड रखने के बावजूद रोहित 25 टेस्ट मैचों में 39.97 की औसत से 1479 रन ही बना पाए। दक्षिण अफ्रीका में लचर प्रदर्शन के कारण उन्हें अफगानिस्तान के खिलाफ 14 जून से शुरू होने वाले एकमात्र टेस्ट के लिए टीम में नहीं चुना गया। लेकिन उन्हें कोई शिकायत नहीं है और उन्होंने कहा कि वह करियर के उस दौर में है जहां वह चयन को लेकर नहीं सोच सकते।

उन्होंने कहा- मैं उस दौर में नहीं हूं जहां मुझे इस पर चिंता करनी पड़े कि मुझे चुना जाएगा या नहीं। मुझे अपने खेल का लुत्फ उठाने की जरूरत है। मेरे करियर के पहले पांच-छह साल ऐसे थे जब मैं यह सोचता था कि क्या मुझे चुना जाएगा। क्या मैं खेलूंगा। अब यह खेल का लुत्फ उठाने से जुड़ा है। रोहित से पूछा गया कि वह अफगानिस्तान के खिलाफ टैस्ट टीम से बाहर किए जाने से हैरान हैं, उन्होंने कहा- नहीं। जैसा मैंने पहले कहा कि मैं केवल अपने खेल का लुत्फ उठा सकता हूं। किसी चीज को लेकर खेद जताने का समय नहीं है। पहले मेरे पास खेद जताने का पर्याप्त समय था। आगे हमें बड़े टूर्नामेंटों में खेलना है, बेहतर यही होगा कि हम उस पर ध्यान दें।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   8717749
 
     
Related Links :-
लाला अमरनाथ हैं भारत की ओर से पहला शतक लगाने वाले ऑल राउंडर
अब यो-यो टेस्ट के बाद आया नेक्सा टेस्ट, खिलाड़ी बाहर हुए तो कोहली होंगे जिम्मेदार
फ्रेंच ओपन : जोकोविच जीते, वोजनियाकी पहुंची प्री क्वार्टर फाइनल में
ज्वेरेव ने पांच सेट में जुमहुर को हराया, स्वितोलिना बाहर
चोट के बावजूद इयोन मोर्गन की हुई इंगलैंड टीम में वापसी
भारतीय महिला रग्बी टीम जून में करेगी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर डैब्यू
चक्का फेंक के एथलीट विकास गौड़ा ने लिया संन्यास
सेरेना ने ग्रैंडस्लैम में जीत से की वापसी
हालेप की संघर्षपूर्ण जीत, क्वितोवा भी आगे बढ़ी
वर्ल्ड इलेवन टीम से बाहर हुए पांड्या, शमी को मिली जगह
 
CopyRight 2016 DanikUp.com