Breaking News
विजय रूपाणी ने की योगी से मुलाकात, UP के लोगों की सुरक्षा का दिलाया भरोसा  |   अडानी के चार्टर प्लेन में UP पहुंचे रूपाणी, राजनीतिक हलचल तेज  |   यूपी-गुजरात के एकता संवाद में बोले योगी-गुजरात देश के विकास का मॉडल  |   राफेल सौदे को लेकर केंद्र की राजग सरकार पर बरसे शत्रुघ्न सिन्हा  |   शाहजहांपुर में गिरी निर्माणाधीन बिल्डिंग को लेकर रेस्क्यू ऑपरेशन पूरा, 3 की मौत  |  
 
 
दैनिक यूपी ब्यूरो
21/05/2018  :  18:37 HH:MM
नीरव मोदी घोटाले के असर से मूडीज ने PNB की रेटिंग घटाई
Total View  86

मूडीज ने इसके अलावा बैंक के आंतरिक नियंत्रण को भी कमजोर बताया है। हालांकि, एजेंसी ने बैंक के रेटिंग परिदृश्य को स्थिर रखा है जो यह दर्शाता है कि बैंक में हुई धोखाधड़ी के नकारात्मक प्रभाव को बहुत हद तक समाहित कर लिया गया है।

नई दिल्लीः अंतर्राष्ट्रीय रेटिंग एजेंसी मूडीज इन्वेस्टर सर्विसेज ने नीरव मोदी घोटाले की वजह से पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) की पूंजी पर नकारात्मक प्रभाव का हवाला देते हुए बैंक की साख (रेटिंग) घटा दी है। मूडीज ने इसके अलावा बैंक के आंतरिक नियंत्रण को भी कमजोर बताया है। हालांकि, एजेंसी ने बैंक के रेटिंग परिदृश्य को स्थिर रखा है जो यह दर्शाता है कि बैंक में हुई धोखाधड़ी के नकारात्मक प्रभाव को बहुत हद तक समाहित कर लिया गया है।

 

एजेंसी ने पीएनबी की रेटिंग को बीएए3 पी-3 से घटाकर बीए1 एनपपी कर दिया है। इसके साथ ही बैंक के आधारभूत ऋण आकलन (बीसीए) को भी कम कर इसे बीए3 से घटाकर बी1 कर दिया है। इस साल फरवरी में पंजाब नेशनल बैंक ने घोषणा की थी कि उसने 11,390 करोड़ रुपए के धोखाधड़ी वाले और अनधिकृत लेनदेन पकड़े हैं। बाद में इस घोटाले की राशि बढ़कर 14,400 करोड़ रुपए पर पहुंच गई। बैंक में धोखाधड़ी सामने आने के बाद मूडीज ने 20 फरवरी, 2018 को बैंक की साख की समीक्षा शुरू की थी। रेटिंग एजेंसी को उम्मीद है कि बैंक को सरकार से कुछ पूंजी समर्थन मिलेगा। इसके अलावा बैंक अपनी गैर प्रमुख संपत्तियों की बिक्री से भी कुछ पूंजी जुटा पाएगा। इसमें रियल एस्टेट संपत्तियों के अलावा सूचीबद्ध आवास वित्त अनुषंगी पीएनबी हाउसिंग फाइनेंस में आंशिक हिस्सेदारी बिक्री शामिल है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि इन संसाधनों के बावजूद बैंक का पूंजीकरण धोखाधड़ी सामने आने से पहले के स्तर पर नहीं पहुंच पाएगा। रिपोर्ट में अनुमान लगाया गया है कि बैंक को वित्त वर्ष 2018-19 में करीब 12,000 से 13,000 करोड़ रुपए की बाह्य पूंजी की जरूरत होगी तभी वह न्यूनतम बासेल तीन सीईटी-1 अनुपात को मार्च, 2019 तक आठ प्रतिशत पर रख पाएगा। इसमें कहा गया है कि सरकार ने 21 सरकारी बैंकों में 65,000 करोड़ रुपए की पूंजी डालने का बजट रखा है। हालांकि, मूडीज का अनुमान है कि पूंजी की भारी कमी से पीएनबी की अगले साल अपने ऋण को बढ़ाने की क्षमता प्रभावित होगी।  






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   7822205
 
     
Related Links :-
ईशा अंबानी-आनंद पीरामल की सगाई आज
शेयर बाजार में भारी गिरावटः सेंसेक्स 1000 अंक गिरा, निफ्टी 11000 के नीचे
यस बैंक पर भारी पड़ा RBI का फैसला, एक झटके में निवेशकों के डूबे 25 हजार करोड़
जेट एयरवेज के ठिकानों पर इनकम टैक्स की रेड
दूध-दही पिलाकर 20,000 करोड़ कमाएंगे रामदेव
सरकार का किसानों को बड़ा तोहफा, प्रधानमंत्री-अन्नदाता आय संरक्षण अभियान को मंजूरी
अमेजॉन के CEO जेफ बेजोस ने बनाया फंड, गरीबों को दान करेंगे 14500 करोड़ रुपए
रुपए की मजबूती के लिए सरकार ने उठाया कदम, गैर-जरूरी आयात पर लगेगी पाबंदी
खाद्य तेलों का आयात अगस्त में 11% बढ़ा
कच्चा तेल आयात कम करने के लिए जैव-ईंधन उत्पादन बढ़ाना जरूरी: गडकरी
 
CopyRight 2016 DanikUp.com