Breaking News
कैबीनेट मंत्री राजभर का दावा, राममंदिर पर अध्यादेश कभी नहीं लाएगी बीजेपी  |   मिशन 2019: बीजेपी की गांव-गांव, पांव-पांव पदयात्रा आज से शुरू।  |   लोकसभा चुनाव से पहले अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी को एक बड़ा तोहफा दे सकते हैं पीएम मोदी।  |   आरएसएस ने फिर रटा राम का नाम कहा 2019 में होगा राम मंदिर का निर्माण, दिल्ली में आज से रथ यात्रा शुरू  |   हनुमान को दलित बताने वाले योगी आदित्यनाथ के बयान पर आजम ने कसा तंज कहा समझ नहीं आ रहा रोएं या हसें  |  
 
 
दैनिक यूपी ब्यूरो
08/12/2017  :  12:53 HH:MM
वासेनर का सदस्य बना भारत, एनएसजी में सदस्यता का दावा और हुआ मजबूत
Total View  119

भारत के वासेनर अरेंजमेंट का 42वां सदस्य बनने से अप्रसार क्षेत्र में देश का कद बढ़ने के साथ महत्वपूर्ण प्रौद्योगिकियों को हासिल करने में भी मदद मिलेगी। साथ ही, परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (एनएसजी) के शामिल किए जाने का दावा मजबूत होगा।

नई दिल्ली, अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत को एक और बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। क्षेत्रीय और अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा उत्कृष्ट निर्यात नियंत्रण व्यवस्था देखनेवाली संस्था वासेनर आरेंजमेंट (डब्ल्यूए) ने गुरुवार को भारत को अपना नया सदस्य बनाया है।

भारत के वासेनर अरेंजमेंट का 42वां सदस्य बनने से अप्रसार क्षेत्र में देश का कद बढ़ने के साथ महत्वपूर्ण प्रौद्योगिकियों को हासिल करने में भी मदद मिलेगी। साथ ही, परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (एनएसजी) के शामिल किए जाने का दावा मजबूत होगा। वासेनार का सदस्य बनने के बाद जहां एक तरफ भारत को महत्वपूर्ण प्रौद्योगिकी मिल पाएगी तो वहीं दूसरी तरफ परमाणु अप्रसार के क्षेत्र में एनपीटी पर हस्ताक्षर नहीं करने के बावजूद नई दिल्ली का रुतबा भी बढ़ेगा।

भारत को वासेनर में शामिल करने का फैसला विएना में चली दो दिनों की बैठक में लिया गया है। इससे परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (एनएसजी) पर भारत का दावा और भी मजबूत होगा। इसके सदस्य देशों के बीच हथियारों के हस्तांतरण में पारदर्शिता को बढ़ावा दिया जाता है। चीन इस संस्था का सदस्य नहीं है, फिर भी उसने अड़चन डालने की भरसक कोशिश की।

एक जारी बयान में कहा गया- “वासेनर आरेंजमेंट में शामल देशों ने सदस्यों के लिए आए आवेदनों की समीक्षा की और भारत को 42वें सदस्य देश के तौर पर शामिल करने पर सहमति बनी। जैसे ही इस दिशा में जरुरी प्रक्रिया पूरी हो जाएगी भारत वासेनर का सदस्य बन जाएगा।

गौरतलब है कि पिछले साल जून में भारत को मिसाइल टेक्नोलॉजी कंट्रोल रिजीम (एमटीसीआर) की पूर्णकालिक सदस्यता दी गई थी। अमेरिका के साथ परमाणु करार होने के बाद से लगातार भारत इसकी निर्यात नियंत्रण संस्था से जुड़ना चाह रहा है, जैसे- एनएसजी, एमटीसीआर, ऑस्ट्रेलिया ग्रुप, वासेनर। ये सभी  परमाणु, जैविक और रासायनिक हथियार और प्रोद्यौगिकी को रेगुलेट करता है।

 






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   6045706
 
     
Related Links :-
ममता डरी हुई हैं; उन्हें जितना जोर लगाना है लगाएं, मैं तीनों यात्राएं करूंगा- शाह
शशि थरूर का विवादित बयान, कहा- अच्छा हिंदू अयोध्या में नहीं चाहता राम मंदिर
विजय रूपाणी ने की योगी से मुलाकात, UP के लोगों की सुरक्षा का दिलाया भरोसा
भाजपा कर रही है मजहब और जाति की राजनीति: सपा
दशहरे के बाद कई विभाग छोड़ सकते हैं पर्रिकर: केन्द्रीय मंत्री
राम मंदिर का मामला SC में विचाराधीन, इसमें सरकार की भूमिका नहीं: केशव मौर्य
कांग्रेस का दावा, मोदी सरकार में बैंकों को लगा 3 लाख करोड़ अधिक का 'बट्टा'
सीता की बजाय नीता के पति की चिंता करने में लगे हैं PM मोदी: तोगड़िया
राम मंदिर मामला, रिजवी ने औवेसी को बताया बिना मूंछ का रावण
राफेल पर सरकार के झूठ का पर्दाफाश : कांग्रेस
 
CopyRight 2016 DanikUp.com