Breaking News
मध्य प्रदेश् के गुना जिले में खड़े ट्रक से बस टकराई, 11 की मौत, 20 घायल।  |   एटा में गायब मासूम का शव पेड़ से लटका मिला  |   पाक ने फिर किया संघर्ष विराम का उल्लघंन  |   पीएम मोदी रूस के लिए रवाना, पुतिन से करेंगे अनौपचारिक मुलाकात  |   कर्नाटक में कैबिनेट के गठन पर कांग्रेस से बातचीत नहीं: कुमारस्वामी  |  
 
06/12/2017  :  20:37 HH:MM
80 हजार हेल्थ कर्मचारियों को हटाने का आदेश
Total View  87

स्वास्थ्य कर्मियों की पिछले 3 दिनों से चल रही हड़ताल को लेकर बिहार सरकार ने कड़ा रुख अपनाया है और आदेश जारी किया गया है कि इन सभी स्वास्थ्यकर्मियों की सेवाएं तत्काल समाप्त की जाएंगी.

कॉन्ट्रैक्ट पर बहाल किए गए 80,000 स्वास्थ्य कर्मियों की पिछले 3 दिनों से चल रही हड़ताल को लेकर बिहार सरकार ने कड़ा रुख अपनाया है और आदेश जारी किया गया है कि इन सभी स्वास्थ्यकर्मियों की सेवाएं तत्काल समाप्त की जाएंगी.

सरकार के इस फैसले के मद्देनजर स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव आर.के महाजन ने सभी जिलाधिकारियों और सिविल सर्जनों को एक पत्र जारी किया है और कहा है कि हड़ताली स्वास्थ्यकर्मियों की सेवाएं तुरंत समाप्त की जाए और उनके जगह पर नई बहाली की जाए.

4 दिसंबर से पूरे राज्य में तकरीबन 80 हजार कॉन्ट्रैक्ट पर बहाल स्वास्थ्य कर्मी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं. हड़ताली स्वास्थ्यकर्मियों की मांग है कि उन्हें स्थाई स्वास्थ्यकर्मियों की तरह समान कार्य के लिए समान वेतन दिया जाए और उनकी सेवाएं भी स्थाई की जाए.

कॉन्ट्रैक्ट पर बहाल स्वास्थ्यकर्मी जो अनिश्चितकालीन हड़ताल पर है उनमें हेल्थ मैनेजर, फार्मासिस्ट, ओटी असिस्टेंट, टेक्नीशियन, डाटा ऑपरेटर और काउंसलर शामिल है. कॉन्ट्रैक्ट पर बहाल स्वास्थ्य कर्मियों की हड़ताल पर जाने से पूरे राज्य में स्वास्थ्य व्यवस्था पूरी तरीके से चरमरा गई है.

 स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव आरके महाजन ने जिलाधिकारी और सिविल सर्जनों को जो पत्र लिखा है उसमें साफ तौर पर कहा गया है कि कॉन्ट्रैक्ट पर बहाल स्वास्थ्य कर्मियों ने सेवा शर्त का उल्लंघन किया है और इस अनुशासनहीनता की वजह से उनकी सेवाएं समाप्त की जाए.

बिहार सरकार के कड़े रुख के बाद हड़ताली स्वास्थ्य कर्मियों ने भी कड़े तेवर दिखलाएं हैं और धमकी दी है कि आने वाले दिनों में अपने आंदोलन को बहुत उग्र बनाएंगे. स्वास्थ्य कर्मियों ने यह भी धमकी दी है कि अगर राज्य सरकार ने उनकी मांगे जल्द नहीं मानी तो वह आत्मदाह भी कर सकते हैं.

 स्‍वास्‍थ्‍य व्‍यवस्‍था चरमराई

गौरतलब है कि 80 हजार कॉन्ट्रैक्ट पर बहाल स्वास्थ्य कर्मियों के एक साथ हड़ताल पर चले जाने से राज्य में स्वास्थ्य व्यवस्था चरमरा गई है. स्वास्थ्य कर्मियों की हड़ताल से सबसे ज्यादा प्रभावित पटना का पटना मेडिकल कॉलेज और अस्पताल तथा नालंदा मेडिकल कॉलेज और अस्पताल है जहां पिछले 3 दिनों में स्वास्थ्य कर्मियों की गैर मौजूदगी की वजह से कई मरीजों का ऑपरेशन रद्द करना पड़ा है.

 

 






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   6306761
 
     
Related Links :-
कर्नाटक हार के बाद पहली बार मीडिया के सामने छलका अमित शाह का दर्द
राहुल गांधी ने दंतेवाड़ा में नक्सली हमले में पुलिसर्किमयों के मारे जाने पर जताया दुख
यरुशलम पर दुनिया भर में विरोध प्रदर्शन, मनाया गया आक्रोश दिवस
PAK ने कुलभूषण की मां-पत्नी को दी मिलने की इजाजत, 25 दिसंबर को होगी मुलाकात
PM मोदी की कार्यशैली से नाराज BJP सांसद ने लोकसभा से दिया इस्तीफा
वासेनर का सदस्य बना भारत, एनएसजी में सदस्यता का दावा और हुआ मजबूत
'मुगल मानसिकता' और 'बाबा साहब से बाबा भोले' तक, पीएम मोदी के वार
80 हजार हेल्थ कर्मचारियों को हटाने का आदेश
बांग्लादेश पहुंच पोप, रोहिंग्या के मुद़दे पर करेंगे बात
अमेरिका की पहेली सिख महिला मेयर चुनी गईं प्रीत
 
CopyRight 2016 DanikUp.com