Breaking News
मध्य प्रदेश् के गुना जिले में खड़े ट्रक से बस टकराई, 11 की मौत, 20 घायल।  |   एटा में गायब मासूम का शव पेड़ से लटका मिला  |   पाक ने फिर किया संघर्ष विराम का उल्लघंन  |   पीएम मोदी रूस के लिए रवाना, पुतिन से करेंगे अनौपचारिक मुलाकात  |   कर्नाटक में कैबिनेट के गठन पर कांग्रेस से बातचीत नहीं: कुमारस्वामी  |  
 
06/12/2017  :  18:40 HH:MM
सस्ते नहीं होंगे कर्ज, RBI ने नहीं घटाई प्रमुख ब्याज दरें
Total View  81

भारतीय रिज़र्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति (MPC या मॉनीटरी पॉलिसी कमेटी) ने प्रमुख ब्याज दरों में इस बार भी कोई बदलाव नहीं किया है.

नई दिल्ली: भारतीय रिज़र्व बैंक, यानी RBI या रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया की मौद्रिक नीति समिति (MPC या मॉनीटरी पॉलिसी कमेटी) ने प्रमुख ब्याज दरों में इस बार भी कोई बदलाव नहीं किया है, जिससे रेपो रेट छह फीसदी पर, रिवर्स रेपो रेट 5.75 फीसदी पर और सीआरआर चार फीसदी पर बरकरार रहे. वैसे, विशेषज्ञों ने पहले ही अनुमान लगा लिया था कि ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया जाएगा, और अब बदलाव नहीं होने से सभी तरह के कर्ज़ों की ब्याज दरें घटने की उम्मीदें अगली समीक्षा तक टल गई हैं.

RBI ने वृद्धि के अनुमान को भी 6.7 फीसदी पर बरकरार रखा है, तथा केंद्रीय बैंक के अनुसार, वित्तवर्ष 2017-18 की दूसरी छमाही के दौरान खुदरा महंगाई दर 4.2 से 4.6 फीसदी रहने का अनुमान है. अब अगली समीक्षा फरवरी, 2018 में होगी, और कर्ज़े सस्ते होने के लिए सभी होमलोन (कार लोन, पर्सनल लोन आदि भी) धारकों को कम से कम दो महीने इंतज़ार करना ही होगा.

इससे पहले, अगस्त के पहले सप्ताह में की गई समीक्षा के दौरान MPC ने रेपो रेट में 25 बेसिस अंक, यानी 0,25 फीसदी की कटौती की थी, और रेपो रेट उस समय छह फीसदी पर आया था. अक्टूबर में की गई समीक्षा के दौरान केंद्रीय बैंक ने महंगाई का हवाला देते हुए प्रमुख ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया था.RBI की मौद्रिक नीति समिति ने ब्याज दरों में नहीं किया बदलाव.

खास बातें

रेपो रेट 6 फीसदी पर ही बरकरार रहेगा.

अब बैंकों से कर्ज सस्ते नहीं होंगे.





----------------------------------------------------
----------------------------------------------------

Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   2116555
 
     
Related Links :-
कर्नाटक हार के बाद पहली बार मीडिया के सामने छलका अमित शाह का दर्द
क्या गठबंधन की 'संजीवनी' से पुनर्जीवित होगी कांग्रेस ?
कभी - कभी सरकार के एजेंट की तरह काम करते हैं राज्यपाल: शिवसेना
विधायक चोरी करने में भाजपा को महारत: कांग्रेस
योग्यता को बनाए रखने के लिए कंपनियां बढ़ा रही हैं वेतनः विशेषज्ञ
UP में शराब बंदी कराकर गुजरात मॉडल लागू करने की करें शुरूआतः ओम प्रकाश राजभर
लोकसभा चुनाव के बाद भाजपा केन्द्र की सत्ता से हो जाएगी बेदखल : अखिलेश
श्रम सुधार से पीछे हटेगी सरकार
क्या है FRDI बिल? अगर बैंक डूबे तो जमा धन का कितना हिस्सा आपको मिलेगा?
गुजरात में पीएम मोदी की चुनावी रैली गुजरात में पीएम मोदी की चुनावी रैली
 
CopyRight 2016 DanikUp.com