Breaking News
सार्क देशों के नेताओं ने भी दी अटल को श्रद्धांजलि  |   आज से शुरू होगा मॉरीशस में विश्व हिंदी सम्मेलन  |   अटल की अंतिम यात्रा में योगी, केशव मौर्य सहित यूपी के दिग्गज नेताओ का जमावड़ा  |   अटल की अंतिम यात्रा में पैदल चले मोदी  |   राजकीय सम्मान के साथ विदा हुए अटल  |  
 
 
दैनिक यूपी ब्यूरो
06/12/2017  :  12:52 HH:MM
अयोध्या विवाद: बाबरी मस्जिद विध्वंस के 25 साल पूरे
Total View  54

बाबरी मस्जिद गिराए जाने के आज 25 साल पूरे हो गए. 6 दिसंबर 1992 को बाबरी मस्जिद ढहा दी गई थी, जिसका मुकदमा आज भी लंबित है.

लखनऊ: बाबरी मस्जिद गिराए जाने के आज 25 साल पूरे हो गए. 6 दिसंबर 1992 को बाबरी मस्जिद ढहा दी गई थी, जिसका मुकदमा आज भी लंबित है. इस मौके को विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल ने शौर्य दिवस यानी विजय दिवस के तौर पर मनाने का फैसला लिया है. वहीं, मुस्लिम संगठनों ने इस दिन यौम--गम यानी दुख का दिन के तौर पर मनाने का एलान किया है. ऐसे में किसी अनहोनी की आशंका से बचने के लिए केंद्र सरकार की एडवाइज़री के बाद अयोध्या और फैजाबाद में कड़ी सुरक्षा तैनात की गई है. पुलिस के साथ-साथ संवेदनशील इलाकों में सीआरपीएफ और आरएएफ की भी तैनाती की गई है. गाड़ियों, होटलों की तलाशी की जा रही है.

मामले से जुड़ी अहम जानकारियां :

भारत के प्रथम मुगल सम्राट बाबर के आदेश पर 1527 में इस मस्जिद का निर्माण किया गया था.

पुजारियों से हिन्दू ढांचे या निर्माण को छीनने के बाद मीर बाकी ने इसका नाम बाबरी मस्जिद रखा.

अयोध्या मंदिर-मस्जिद विवाद सबसे पहले वर्ष 1949 में अदालत की चौखट पर पहुंचा था

महंत रामचंद्र दास परमहंस  जो उस समय के महंत थे उन्होंने भगवान राम की पूजा करने इजाजत देने के लिए न्यायालय पहुंचे थे. मस्जिद कोढांचानाम दिया गया.

बाबरी मस्जिद के केंद्रीय स्थल पर करीब 50 हिंदूओं ने कथित तौर पर रामलला की मूर्ति रखी दी थी, जिसके बाद यहां उनकी पूजा अर्चना शुरू हो गई और यहां मुसलमानों ने नमाज पढ़ना बंद कर दिया.

हाशिम अंसारी ने भी अदालत में याचिका दाखिल करके बाबरी मस्जिद में रखी मूर्तियां हटाने के आदेश देने का आग्रह किया था.

हाशिम अंसारी ही इकलौते ऐसे शख्स थे जो 1949 में इस मस्जिद में रामलाल की मूर्तियां रखे जाने के गवाह थे. उन्होंने इस पूरे घटनाक्रम को खुद देखा था.

 वर्ष 1990 में लाल कृष्ण आडवाणी ने गुजरात के सोमनाथ से अयोध्या तक रथ यात्रा निकाली.

हजारों की संख्या में कार सेवकों ने  वर्ष 1992 में अयोध्या पहुंचकर बाबरी मस्जिद ढहा दिया, जिसके बाद सांप्रदायिक दंगे हुए.

वर्ष 2010 में इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने इस संबंध में फैसला सुनाया था. न्यायालय ने विवादित जमीन को तीन हिस्सों में बांटने का फैसला सुनाया था, लेकिन बाद में सुप्रीम कोर्ट ने इस फैसले पर रोक लगा दी.






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   8893521
 
     
Related Links :-
श्रद्धाजंलि: एक दशक पहले मौन हो गया था शब्दों का जादूगर
राष्ट्रपति ने राज्यसभा के लिए इन चार हस्तियों को किया मनोनीत
सपा-बसपा ने मिलकर देश को लूटाः योगी
पूर्वांचल एक्‍सप्रेस-वे का आज शिलान्यास करेंगे माेदी, अखिलेश का तंज-वे तो हमारा प्रोजेक्‍ट
पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का शिलान्यास कर बाेले PM-पिछड़े इलाकाें का तेजी से हाे रहा विकास
मुन्ना बजरंगी मर्डर मामला: आरोपी सुनील राठी को बागपत जेल से किया गया शिफ्ट
यूपी: आज दो दिवसीय वाराणसी दौरे पर जाएंगे PM मोदी, पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का करेंगे शिलान्यास
SC ने कहा, शादी में हुए खर्च का हिसाब देना अनिवार्य करे सरकार
महबूबा की मोदी सरकार को धमकी, PDP को तोड़ा तो होंगे 90 जैसे हालात
मिशन 2019: पीएम मोदी देशभर में 50 रैलियों को करेंगे संबोधित
 
CopyRight 2016 DanikUp.com