Breaking News
सार्क देशों के नेताओं ने भी दी अटल को श्रद्धांजलि  |   आज से शुरू होगा मॉरीशस में विश्व हिंदी सम्मेलन  |   अटल की अंतिम यात्रा में योगी, केशव मौर्य सहित यूपी के दिग्गज नेताओ का जमावड़ा  |   अटल की अंतिम यात्रा में पैदल चले मोदी  |   राजकीय सम्मान के साथ विदा हुए अटल  |  
 
 
दैनिक यूपी ब्यूरो
17/11/2017  :  20:42 HH:MM
पीते हैं एनर्जी ड्रिंक्स तो जान लें इससे होने वाली हानि
Total View  73

एक ताजा अध्ययन में इस बात का खुलासा हुआ है।अध्ययन में यह जानकारी निकलकर सामने आई है कि अक्सर एनर्जी ड्रिंक्स को शराब के साथ लिया जा रहा है।

एनर्जी ड्रिंक्स का अधिक सेवन मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं, रक्तचाप, मोटापा और गुर्दे की क्षति समेत कई गंभीर स्वास्थ्य जोखिम पैदा कर सकता है। एक ताजा अध्ययन में इस बात का खुलासा हुआ है।अध्ययन में यह जानकारी निकलकर सामने आई है कि अक्सर एनर्जी ड्रिंक्स को शराब के साथ लिया जा रहा है। अधिकांश एनर्जी ड्रिंक्स के अवयवों में पानी, चीनी, कैफीन, कुछ विटामिन, खनिज और गैर-पोषक उत्तेजक पदार्थ जैसे गुआरना, टॉरिन तथा जिन्सेंग आदि शामिल रहते हैं।

एनर्जी ड्रिंक्स में लगभग 100 मिलीग्राम कैफीन प्रति तरल औंस होता है, जो नियमित कॉफी की तुलना में आठ गुना अधिक होता है। कॉफी में 12 मिलीग्राम कैफीन प्रति तरल औंस होता है। एनर्जी ड्रिंक्स में उपरोक्त सभी स्वास्थ्य जोखिम इसमें मौजूद चीनी और कैफीन की उच्च मात्रा के कारण होता है।

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) के अध्यक्ष पद्म श्री डॉ. के. के. अग्रवाल ने कहा, "एनर्जी ड्रिंक्स शरीर के लिए नुकसानदेह हैं। उनमें कैफीन की अधिक मात्रा होने से युवाओं एवं बूढ़े लोगों में हृदय ताल, रक्त प्रवाह और रक्तचाप की समस्याएं हो सकती हैं। इन पेय पदार्थो में तौरीन नामक एक तत्व होता है, जो कैफीन के प्रभाव को बढ़ाता है। इसके अलावा, जो लोग शराब के साथ एनर्जी ड्रिंक्स पीते हैं, वे इसके प्रभाव में अधिक शराब पी जाते हैं। एनर्जी ड्रिंक्स लेने से शराब पीने का पता नहीं लग पाता, जिस कारण से लोग अधिक पीने के लिए प्रेरित होते हैं।"

18 वर्ष से कम उम्र के लोगों, गर्भवती महिलाओं, कैफीन के प्रति संवेदनशील लोगों, एडीएचडी के लिए निर्धारित दवा जैसे एडर आदि लेने वालों के लिए एनर्जी ड्रिंक्स खास तौर पर अधिक नुकसानदेह होते हैं। यहां कुछ खाद्य पदार्थ बताये जा रहे हैं जो दिन भर सतर्क और उत्साहित रखने में आपकी मदद कर सकते हैं, वो भी स्वाभाविक रूप से -

 

 ग्रीन टी: इसमें विटामिन , बी, सी और होता है, और यह परिसंचरण तथा चयापचय में सुधार करती है। इसमें एल-थेनाइन भी शामिल है जो कि एक एंटीऑक्सिडेंट है।

 गेहूं का सेवन: यह विटामिन , सी, , बीटा कैरोटीन, एमिनो एसिड और कैल्शियम से समृद्ध होता है। विटामिन बी, विशेष रूप से बी 12, आयरन और मैग्नीशियम ऊर्जा के स्तर को बढ़ाने में आश्चर्यजनक कार्य करते हैं।

 केला: इसमें पोटेशियम, मैग्नीशियम, सोडियम, कैल्शियम, और फास्फोरस समेत इलेक्ट्रोलाइट्स उपस्थित होने के कारण थकान से लड़ने में मदद मिलती है।

 पानी: एक व्यक्ति जब ऊर्जा के स्तर में कमी का अनुभव करता है, तब उसका मतलब होता है कि उसके शरीर में पानी की मात्रा कम हो जाती है। थकान को दूर करने के लिए पर्याप्त पानी का उपयोग करना सुनिश्चित करें।

नट: ये प्रोटीन से समृद्ध होते हैं, जो रक्त शर्करा के स्तर को स्थिर कर देते हैं। अखरोट और बादाम मैग्नीशियम और ओमेगा -3 फैटी एसिड में उच्च होते हैं, जो ऊर्जा के स्तर को बढ़ाने में मदद करते हैं।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   6588058
 
     
Related Links :-
रोजाना करेंगी ये 2 एक्सरसाइज तो तेजी से कम होगा बॉडी में जमा फैट
रोजाना करेंगी ये 2 एक्सरसाइज तो तेजी से कम होगा बॉडी में जमा फैट
बच्चों के लिए घर पर बनाएं Mango Icecream
शरीर में हार्मोन्स इंबैलेस होने पर दिखते हैं ये लक्षण, इन चीजों को खाकर करें कंट्रोल
चेहरे से गंदगी हटाने के लिए इस्तेमाल करें ये Natural Facewash
शिल्पा की तरह रहना है फिट और हैल्दी तो भूल जाएं ये 5 डाइटिंग मिथ
स्कूली लड़कियों को मुफ्त में सैनेटरी नैप्कीन्स मुहैया करवाएगी हरियाणा सरकार
पीते हैं एनर्जी ड्रिंक्स तो जान लें इससे होने वाली हानि
जुल्फों को कुछ ऐसे बांधें
अपने लुक को लेकर हैं सजग तो सर्दियों में पहनें पोंचो
 
CopyRight 2016 DanikUp.com