Breaking News
कैबीनेट मंत्री राजभर का दावा, राममंदिर पर अध्यादेश कभी नहीं लाएगी बीजेपी  |   मिशन 2019: बीजेपी की गांव-गांव, पांव-पांव पदयात्रा आज से शुरू।  |   लोकसभा चुनाव से पहले अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी को एक बड़ा तोहफा दे सकते हैं पीएम मोदी।  |   आरएसएस ने फिर रटा राम का नाम कहा 2019 में होगा राम मंदिर का निर्माण, दिल्ली में आज से रथ यात्रा शुरू  |   हनुमान को दलित बताने वाले योगी आदित्यनाथ के बयान पर आजम ने कसा तंज कहा समझ नहीं आ रहा रोएं या हसें  |  

लाइफस्टाइल

हृदय रोग में नाशपाती लाभकारी
पीड़ित मध्य आयु वर्ग के व्यक्ति नियमित तौर पर नाशपाती का सेवन करते हैं, तो उनमें रक्तचाप और संवहनी क्रियातंत्र दुरुस्त रहता है।
 
मधुमेह की दवा से होता मोटापा कम!
इलाज में बड़े पैमाने पर प्रयोग की जानेवाली इंजेक्टेबल दवाई के साथ खान-पान पर नियंत्रण और व्यायाम के जरिए स्वास्थ्य बेहतर किया जा सकता है।
 
जीवाणुरोधी साबुन नवजात के लिए हानिकारक
जीवाणुरोधी साबुन का प्रयोग गर्भवती तथा स्तनपान कराने वाली महिला की संतान के लिए हानिकारक हो सकता है।
 
आंख की रोशनी खोने वालों का बीएचयू अपने खर्चे पर एसजीपीजीआई में कराये इलाज
न्यायालय ने इन पीडि़तों के इलाज का खर्च काशी हिन्दू विश्वविद्यालय (बीएचयू) वाराणसी को उठाने को कहा है।बीएचयू में डाक्टरों की लापरवाही के चलते सात मरीजों की आंख की रोशनी चली गयी।याची का कहना है
 
धूम्रमान से हो सकता है इम्फीसेमा
बीमारी का प्रमुख कारण धूम्रमान माना जाता है। भारत के एक तिहाई लोग तंबाकू उत्पादों का सेवन करते हैं। शहरी क्षेत्रों में सिगरेट और चबाने वाला तंबाकू आम बात है
 
एचाआईवी रोगियों के लिए मददगार एंजाइम
हृदय रोगों के जोखिम को कम कर सकता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, पूरी दुनिया में लगभग 3.7 करोड़ लोग एचआईवी से ग्रस्त हैं।
 
विटामिन सी मोतियाबिंद में भी मददगार : शोध
शोध का नेतृत्व करने वाले डॉ. क्रिस्टोफर हेमंड ने 'ओप्थामोलॉजी' नामक पत्रिका में प्रकाशित एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा है, "हालांकि, हम पूर्ण रूप से मोतियाबिंद के विकास से बचाव नहीं कर सकते, लेकिन विटामिन सी के सेवन से हम इसे कुछ हद तक रोकने में सक्षम हो सकते हैं।
 
समय पूर्व जन्मे बच्चों के प्रति रहती है ज्यादा चिंता
बच्चों की तुलना में समय से पूर्व जन्मे बच्चों के प्रति उनके माता-पिता ज्यादा चिंतित रहते हैं। एक शोध में यह बात सामने आई है।
 
बुन्देलखण्ड में पशु नस्ल सुधार के लिए कृत्रिम गर्भाधान की व्यवस्था
बुन्देलखण्ड क्षेत्र में अन्नाप्रथा उन्मूलन योजना के तहत निम्न आनुवांशिक गुणवत्ता के पशुओं में नस्ल सुधार के लिए कृत्रिम गर्भाधान की व्यवस्था निःशुल्क उपलब्ध करायी जायेगी।
 
रंगों से यूं करें बालों और त्वचा की सुरक्षा
हम सभी को बेसब्री से इंतजार है, लेकिन इस इंतजार में एक महत्वपूर्ण बात हम सभी को याद रखने की जरूरत है। इस दिन आपको पिचकारी, गुब्बारों तथा गुलाल के प्रयोग से अपने बालों और त्वचा की रक्षा करनी चाहिए,
 
कमजोर आंत से होता है मधुमेह, मोटापे का खतरा
मनुष्य की आंतों में जीवाणुओं का पारिस्थितिकी तंत्र कमजोर हो जाता है, जिससे टाइप 2 मधुमेह और मोटापे का खतरा बढ़ जाता है।
 
मिलावटी दूध से बचना जरूरी
देश में बिकने वाला 68 प्रतिशत दूध देश की खाद्य उत्पाद नियंत्रक संस्था एफएसएसएआई के मापदंडों पर खरा नहीं उतरता।
 
बच्चों की कैलोरी खपत पर रखें नजर
बच्चे थाली में स्वादिष्ट भोजन देखकर उस पर टूट पड़ते हैं, जबकि कैलोरी से भरपूर वह भोजन बच्चों के लिए हानिकारक होता है
 
अपौष्टिक आहार, खराब जीवनशैली से जल्दी आता है बुढ़ापा
मनुष्य की आयु में वृद्धि करने वाली कोशिकाओं में से एक 'सीनेसेंट' उम्र से जुड़े बीमारियों और स्थितियों में अहम भूमिका निभाती है।
 
रोबोटिक सर्जरी जन-जन तक पहुंचे : विशेषज्ञ
कैंसर सहित बहुत सारी बीमारियों में रोबोटिक सर्जरी से इलाज के दौरान कम से कम खून का नुकसान होता है, मरीज जल्दी सामान्य होता है और उसे अस्पताल में भी कम वक्त बिताना पड़ता है।
 
गलत निर्णय लेने के लिए जिम्मेदार तनाव, चिंता
चिंताएं व्यक्ति को गलत फैसले लेने पर मजबूर करती हैं। शोध के निष्कर्षो के अनुसार, चिंताएं मस्तिष्क की उन गतिविधियों को बाधित करती हैं,
 
गर्भावस्था में मोटापा संतान के लिए हानिकारक
एक नए अध्ययन से मंगलवार को जानकारी मिली। अध्ययन में यह भी पता चला है कि उच्च रक्त शर्करा से पीड़ित महिलाओं की संतान के भी बड़े आकार के साथ जन्म लेने का खतरा होता है।
 
अल्जाइमर से लड़ने में मददगार है ब्लूबेरी
ब्लूबेरी अल्जाइमर की बीमारी से भी निजात दिलाने में कारगर साबित हो सकती है।एक नए शोध में पता चला है कि ब्लूबेरी में प्रचुर मात्रा मेें एंटीऑक्सीडेंट होने के कारण यह यादादश्त क्षमता घटाने वाली बीमारी डिमेन्शिया तथा अल्जाइमर के बुरे प्रभावों को रोकने में कारगर है।
 
थोड़ा-थोड़ा बार-बार शराब पीना जानलेवा
बिंज ड्रिंकिंग का तात्पर्य पुरुष का दो घंटे में चार बार शराब पीना और महिलाओं का दो घंटों में पांच बार शराब पीने से है। जो भी युवा कम समय में इतनी शराब पीता है, उसके स्वास्थ्य पर बुरा असर तो पड़ता ही है, उसकी मौत का जोखिम भी बना रहता है।
 
मसूड़े के रोग से भूलने की बीमारी का खतरा
शोधकर्ताओं के मुताबिक, मसूड़े के रोग भूलने की बीमारी यानी डिमेंशिया की गति को बढ़ा देता है। साथ ही मानसिक रोग अल्जाइमर को तेजी से बढ़ाने में योगदान देता है।
 

CopyRight 2016 DanikUp.com